JugJugg Jeeyo Review :वरुण धवन,अनिल कपूर (पिता-पुत्र) की एक्टिंग धमाल मचा रही है Comedy का बेहतरीन डोज : 24th June 2022

By | June 24, 2022

JugJugg Jeeyo Review | JugJugg Jeeyo Movie Review | JugJugg Jeeyo Review Highlight

JugJugg Jeeyo Review

JugJugg Jeeyo Review

दो जाने-माने युवकों की शादी हो जाती है और पांच साल के भीतर तलाक हो जाता है। दूसरा जोड़ा सीनियर है। ऊपर सब कुछ ठीक चल रहा है। बेटी की शादी होने वाली है। लेकिन, पिता अभी भी प्यार की तलाश में है। पत्नी उसका ख्याल रखती है लेकिन वह उसके साथ रोमांटिक नहीं हो पाता है।

फिल्म ‘जुग जुग जियो’ यह उस दौर की कहानी है जिसमें पिता को वापस पटरी पर लाने के लिए बेटे को मैदान में उतरना पड़ता है। मैदान में तीन पारिवारिक शादियां हैं। दो हो चुके हैं, तीसरा होने वाला है। इस तीसरी शादी की तैयारियों के बीच घर में दो शादियों के तार बिखर रहे हैं. फिल्म ‘जुग-जुग जियो’ तीनों शादियों को उल्टा मोड़कर अलग-अलग नजरिए से परखती है।

JugJugg Jeeyo Review Highlight

JugJugg Jeeyo Review
Movie ReviewJugJugg Jeeyo
कलाकारवरुण धवन , कियारा आडवाणी , नीतू कपूर , अनिल कपूर , प्राजक्ता कोली और मनीष पॉल आदि
लेखकअनुराग सिंह , ऋषभ शर्मा , सुमित भटेजा और नीरज उधवानी
निर्देशकराज मेहता
निर्माताधर्मा प्रोडक्शंस और वॉयकॉम 18 स्टूडियोज

JugJugg Jeeyo Review पिता के तलाक में फंसी बेटे की प्रेम कहानी

फिल्म ‘जुग जग जियो’ (JugJugg Jeeyo) की कहानी कनाडा से शुरू होती है। सफलता की रफ्तार पर सवार होकर नैना को अपनी ही कंपनी में बड़ा प्रमोशन मिला है . नैना और कुकू एक दूसरे को बचपन से जानते हैं। दोनों ने लव मैरिज की थी, लेकिन शादी के पांच साल बाद उनके स्वाभिमान और अभिमान ने रिश्ते में दरार डाल दी है।

कुकू की बहन गिन्नी की शादी भारत में तय हो चुकी है और दोनों इस शादी के पूरा होने तक अपने तलाक को टालने का फैसला करते हुए भारत आ जाते हैं। कुकू के पिता भीम का कुकू की शिक्षिका मीरा से अफेयर चल रहा है और भीम नशे में धुत होकर अपने बेटे को यह बात बताता है। बेटे, अपने तलाक के बारे में बात करने के लिए अवसर की तलाश में, अपने पिता की तलाक की तैयारियों के बारे में जानकर दंग रह जाता है।

परिवार में फैली इन दोनों विपदाओं से मां अनजान है। बेट्टी भी परिवार की खुशी के लिए एक अजनबी से शादी करने के लिए सहमत हो गई है, जबकि उसे एक ऐसे युवक से प्यार हो जाता है जो संगीत की दुनिया में अपना अस्तित्व खोजने के लिए संघर्ष कर रहा है।

JugJugg Jeeyo Review राज मेहता के हिंदी सिनेमा के लिए खुशखबरी

निर्देशक राज मेहता ने धर्मा प्रोडक्शंस और यश राज फिल्म्स में अन्य निर्देशकों के सहायक के रूप में लंबा समय बिताया और फिर तीन साल पहले अपनी पहली फिल्म ‘गुड न्यूज’ बनाई। हास्य के रस में एक गंभीर विषय को मिलाकर कहानी कहने का उनका अंदाज भी फिल्म ‘जुग-जुग जियो’ की शुरुआत में ही देखने को मिलता है।

इंटरवल तक ऐसा लगता है कि राज मेहता विषय को ठीक से समझ नहीं पा रहे हैं। उनका निर्देशन भी फिल्म के अलग-अलग ट्रैक में भटकता हुआ नजर आता है, लेकिन इंटरवल के बाद , इसमें अनिल कपूर और नीतू कपूर के दमदार अभिनय से राज को मदद मिलती है। इसके बाद राज मेहता ने फिल्म को खूबसूरती से लपेटा है और हर कलाकार के प्रदर्शन को साबित करने के लिए अलग-अलग दृश्य बनाकर फिल्म को हैप्पी एडिंग तक ले गए हैं।

JugJugg Jeeyo movie Review अनिल और नीतू के अनुभव का आसमान

JugJugg Jeeyo movie Review

फिल्म ‘जुग जग जियो’ अनिल कपूर और नीतू कपूर के कलाकारों के अनुभव पर आधारित है। फिल्म जब भी थोड़ी कमजोर लगती है तो अनिल कपूर उसे अपने अजीबोगरीब किरदार से भर देते हैं। फिल्म की शुरुआत तब होती है जब मीरा बनी टिस्का चोपड़ा के सामने नीतू कपूर अपने पति के ‘चैरिटी’ सीन में अपनी आदतों और परेशानियों के बारे में बात करती हैं, जबकि बीमार पड़ने का उनका ढोंग उनके अफेयर की कहानी को संभालता है।

फिल्म को इसके सपोर्टिंग कास्ट खासकर मनीष पॉल और प्राजक्ता कोली से भी काफी मदद मिलती है। फिल्म का मुख्य आकर्षण यह है कि गिन्नी अपने माता-पिता और बहनोई को आदर्श युगल के स्लॉट में फिट नहीं होने के लिए लताड़ लगाती है। और, मनीष पॉल ने लंबे समय से हिंदी सिनेमा में चल रहे एक युवा कॉमेडियन की कमी को पूरा करने की पूरी कोशिश की है। उनकी वन लाइनर फिल्म का अच्छा कॉमिक रिलीफ है।

JugJugg Jeeyo Movie वरुण की संजीवनी, कियारा का करिश्मा

फिल्म ‘जुग जग जियो’ की अंडरकरंट कुकू और नैना की प्रेम कहानी है। फिल्म की शुरुआत में दोनों की शादी हो जाती है। इसके बाद दोनों में पहले इस शादी से बाहर निकलने और फिर इस शादी को बचाने की जद्दोजहद होती है। यह फिल्म 35 साल के वरुण धवन के लिए सबसे कठिन चुनौती थी। यह उनकी आखिरी फ्लॉप फिल्म ‘कलंक’ पर भी चुटकी लेती है। पांच साल पहले आई फिल्म ‘जुड़वा 2’ के बाद से वरुण का करियर थम गया है।

‘अक्टूबर’ और ‘सुई धागा’ जैसी फिल्मों में उनके अभिनय की तारीफ हुई लेकिन फिल्मों ने कमाई नहीं की। फिर ‘कलंक’, ‘स्ट्रीट डांसर 3डी’ और ‘कुली नंबर 1’ में उन्हें लगा कि वो रेस से बाहर हो जाएंगे लेकिन फिल्म ‘जुग जग जियो’ में अपनी मेहनत से वो वापस पटरी पर आते दिख रहे हैं. वरुण एक ऊर्जावान अभिनेता हैं और राज मेहता ने उन्हें फिल्म में सही चरित्र में चित्रित किया है।

वरुण धवन ने मौके का अच्छा फायदा उठाया और प्रभाव छोड़ने में भी कामयाब रहे। कियारा आडवाणी फिल्म दर फिल्म फल-फूल रही हैं। उनका अभिनय कभी-कभी वास्तव में मुझे हेमा मालिनी की याद दिलाता है। वरुण धवन के साथ एक फाइट सीन में उनका उबलना और फिर अपनी गलती का एहसास उनके अभिनय कौशल को दर्शाता है।

JugJugg Jeeyo Review संगीत

jugjugg jeeyo review song

निर्माता करण जौहर ने फिल्म ‘जुग जग जियो’ के लिए सही कास्ट का चुनाव किया है। उनकी मेकिंग का असर फिल्म पर भी दिख रहा है। इसके सेट में भव्यता साफ नजर आती है। वेशभूषा पर बहुत खर्च किया गया है और बड़े पर्दे के लिए आवश्यक हर दृश्य को सजाने के लिए उसने पैसे की कोई कमी नहीं देखी है।

फिल्म ‘जुग जग जियो’ की समस्याएं इसके संगीत और इसकी तकनीकी टीम में हैं। फिल्म के कम से कम तीन गाने रीमिक्स हैं।

‘नच पंजाबन’ पाकिस्तानी गायक अबरार-उल-हक के गाने का रीमिक्स है, ‘रंगीसारी’ शोभा गुरतू की मशहूर ठुमरी है और ‘दुपट्टा’ भी पिछली सदी के हिट पंजाबी गानों का रीमिक्स है। धर्मा प्रोडक्शंस जैसी कंपनियों से हिंदी सिनेमा में संगीत के स्तर को ऊपर उठाने और मूल संगीत के लिए संजीवनी खोजने की उम्मीद की जाती है।

लेकिन, फिल्म ‘जुग जग जियो’ म्यूजिकल लेवल पर काफी निराश करती है। जय पटेल की सिनेमैटोग्राफी औसत दर्जे की है और मनीष मोरे का संपादन ज्यादा प्रभावित नहीं करता है। फिल्म की अवधि को इंटरवल से कम से कम 15 मिनट पहले भी कम किया जा सकता है।

JugJugg Jeeyo देखना नहीं देखना

जिन बेटियों की शादी किसी अनजान आदमी से होती है, वे दूसरे घर में प्यार की उम्मीद लेकर आती हैं। इससे पहले कि दोनों ठीक से पति-पत्नी बन सकें, दोनों माता-पिता बन जाते हैं। फिर जब बच्चे बड़े होकर चले जाते हैं तो दोनों को दोबारा पति-पत्नी बनने का मौका मिलता है, लेकिन तब तक दोनों एक-दूसरे के अभ्यस्त हो चुके होते हैं.यही फिल्म ‘जुग-जुग जियो’ का सार है।

यही कारण है कि फिल्म पारिवारिक मनोरंजन की कसौटी पर खरी उतरती है क्योंकि दो पीढ़ियों की बदलती सोच के साथ तालमेल बिठाना दो पीढ़ियों के अंतर के अलावा दो पीढ़ियों की बात है। वीकेंड पर आउटिंग फैमिली के लिए फिल्म ठीक है।

JugJugg Jeeyo Trailer link

ALSO READ:

777 Charlie Movie Review

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *